भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लत / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारी म्हारी रो
थूक बिलोवणो
हत्ती-तत्ती रो
कादो किचोवणो
बणगी है आपणी लत
अबार
आपां बिगाड़ां
बगत री गत
पछै बगत करैला
आपणी दुरगत ।