भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लपट, बोली / ओक्ताविओ पाज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक कविता में पढ़ता हूँ :
बोलना दिव्य है ।
लेकिन देवता बोलते नहीं :
वे दुनिया बनाते और बिगाड़ते हैं ।
वे डरावने खेल खेलते रहते हैं
शब्दों के बिना ।

रुह उतरती है,
ज़ुबान खुलती है,
लेकिन शब्द नहीं निकलते :
आग निकलती है ।
किसी देवता की जलाई हुई
भाषा बन जाती है
दैववाणी
जले शब्दों की
लपट और धुएँ का
मीनार और खण्डहर :
अर्थहीन राख ।

इनसान का शब्द
मौत की बेटी है ।
हम बोलते हैं क्योंकि हम नश्वर हैं :
शब्द सँकेत नहीं, बीते हुए बरस हैं ।
जो कहते हैं, जो वो कहते हैं,
हमारे कहे गए शब्द
समय हैं : वे हमें नाम देते हैं ।
हम समय के नाम हैं ।

बोलना मानवीय है ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य