भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लब-ए-ईसा की जुम्बिश करती है गहवारा-जम्बानी / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लब-ए-ईसा की जुम्बिश करती है गहवारा-जम्बानी
क़यामत कुश्त-ए-लाल-ए-बुताँ का ख़्वाब-ए-संगीं है

बयाबान-ए-फ़ना है बाद-ए-सहरा-ए-तलब ग़ालिब
पसीना-तौसन-ए-हिम्मत तो सैल-ए-ख़ाना-ए-जीं है