भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लम्बी व्यस्तता के बाद / राबर्ट ब्लाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हफ़्तों मेज पर बिताने के बाद
आखिर निकल पड़ता हूँ टहलते हुए.
छिप गया है चंद्रमा, पैरों के नीचे मुलायम मिट्टी जुते हुए खेत की
न तो सितारे न ही रोशनी का कोई सुराग !
सोचो इस खुले मैदान में अगर कोई घोड़ा
सरपट दौड़ता आ रहा होता मेरी तरफ ?
वे सारे दिन बेकार गए
जो मैनें नहीं बिताए एकांत में.

अनुवाद : मनोज पटेल