भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लहर / निलिम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लहरें पानी में उठ रही हैं
रजत-सुनहरी लहरें

लहरें मछलियों में बदल गई हैं

लहरें प्रतिकूल दिशा में बह रही हैं
जाल और फंदों से आदमी लहरों को पकड़ रहे हैं

टोकरियाँ लहरों से भरी गई हैं
लहर-रक्त से सने हैं माँस छीलने के चाकू

लहरें दमक रही हैं
नमक और हल्दी की रंगत से

औरतें लहरों से दोपहर पका रही हैं
कटोरे लहरों में छलछला आए हैं

लहरें जा रही हैं
मनुष्यों के पेट में

एक असम्भव कविता की तरह
रजत-सुनहरी लहरें ।