भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लहर / निलिम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लहरें पानी में उठ रही हैं
रजत-सुनहरी लहरें ।

लहरें मछलियों में बदल गई हैं ।

लहरें प्रतिकूल दिशा में बह रही हैं,
जाल और फन्दों से आदमी लहरों को पकड़ रहे हैं ।

टोकरियाँ लहरों से भरी गई हैं,
लहर-रक्त से सने हैं माँस छीलने के चाकू ।

लहरें दमक रही हैं,
नमक और हल्दी की रंगत से ।

औरतें लहरों से दोपहर पका रही हैं,
कटोरे लहरों में छलछला आए हैं ।

लहरें जा रही हैं,
मनुष्यों के पेट में ।

एक असम्भव कविता की तरह
रजत-सुनहरी लहरें ।

मूल बांगला से अनुवाद : अनिल जनविजय