भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

लहू / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लहू

अगर लहू है बदन में तो ख़ौफ़[1] है न हिरास[2]
अगर लहू है बदन में तो दिल है बे-वसवास[3]

जिसे मिला ये मताए-ए-गराँ बहा[4] उसको
नसीमो-ज़र[5] से मुहब्बत है, नै ग़मे-इफ़्लास[6]

शब्दार्थ
  1. भय
  2. त्रास
  3. निडर
  4. बड़ा धन
  5. सोने-चाँदी
  6. दरिद्रता का कष्ट