भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाईआ ते तोड़ निभावीं / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लाईआ ते तोड़ निभावीं चन्न वे
छड के न जावीं वे बीबा छड के न जांवीं

माही साहुकारा वे कुड़ी आं गरीबां दी
तेरे हथ डोर चन्ना मेरेआं नसीबाँ दी

ऐस ताज महल उत्ते एहो सोहं पाई ए
जिंदगी चलाई ए तेरे नाल लाई ए

किसे किसे वेले चन्ना जान मेरी डरदी वे
सुनया ऐ लगी होई तोड़ नइयों चड़दी