भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाल चन्दन है / ठाकुरप्रसाद सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे घर के पीछे चन्दन है,
लाल चन्दन है।

तुम ऊपर टोले के
मैं निचले गाँव की
राहें बन जाती हैं रे
कड़ियाँ पाँव की,

समझो कितना
मेरे प्राणों पर बन्धन है।
आ जाना वन्दन है-
लाल चन्दन है।