भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाल / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसे कहूँ लाल ?
तुम्हें !
मेरा लाल रँग तो तुम हो !

आज समझ पाया हूँ
सूर्य डूबते-डूबते कैसे
रँगीन कर जाता है

नदी तट से घिरी
वनभूमि को ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी