भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाशें / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब-जब मैंने उठाई है क़लम
प्यार के बोल लिखने के लिए,
मेरे काग़ज़ के पन्नों पर आकर लेट जाती है,
मरे हुए लोगों की लाशें !
काग़ज़ के पन्नों पर,
उसे बीचोंबीच से चीरते हुए,
बहती रहती है नहर !
चाँदनी में खड़ी रहती है साइकिल-वैन
चाँदनी में खड़ा रहता है,
सिर पर कफ़न ओढ़े-- वैन चालक


बांग्ला से अनुवाद : सुशील गुप्ता