भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लील-सूक है दोनूं म्हारी सांवरिया / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लील-सूक है दोनूं म्हारी सांवरिया
अब खेलै तो मरजी थारी सांवरिया

कीं तो कमी हुवैला थारै आंगणियै
हरख-चिड़ी जावै परबारी सांवरिया

जग देखां पण कोई जचै रुचै कोनी
आ है ईं मन री लाचारी सांवरिया

औ खेल है औ खेल इंयां ई चालसी
तावड़ो छीयां बारी-बारी सांवरिया

दो दिन मिल मुळक बतळावणो सगळा सूं
थारी माया सबसूं न्यारी सांवरिया