भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लुगाई : दो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारै होठां खातर कोनी
बतळावणो-मुळकणो-हंसणो
थारै नैणा खातर कोनी
काजळ री तीखी धार
थारै डील खातर कोनी
रातै गाभां रो सुख
थारी जीभ खातर कोनी
ताती रोटी रो स्वाद

तीज तिंवार
एढ़ा-टांकड़ा
आडै दिन-सा आवै अर जावै
सांस रै सागै
ऊमर रा दिन ओछा करै तूं
बण पाखण-पूतळी !