भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लुभा रही तो है दुनिया चमक दमक की मुझे / रऊफ़ खैर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लुभा रही तो है दुनिया चमक दमक की मुझे
मगर हयात गवारा नहीं धनक की मुझे

हमेशा अपनी लड़ाई में आप लड़ता हूँ
नहीं रही कभी हाजत किसी कुमक की मुझे

बहुत दिनों से ज़मान ओ मकान हाइल हैं
कि आस भी न रही अब तिरी झलक की मुझे

मिरे क़लम की जो ज़द में ये बहर ओ बर आते
दुहाई देने लगे नान और नमक की मुझे

मिरा गुमान यकीं में बदलता रहता है
समझने वाले भले ही समझ लें शक्की मुझे

चुनाँचा गर्दिश-ए-अय्याम थक के बैठ गई
मैं सख़्त-जान हूँ क्या पीसती ये चक्की मुझे

इसीलिए तो मैं निमटा रहा हूँ काम अपने
मैं जानता हूँ कि मोहलत है आज तक की मुझे

अदा किया उसी सिक्के में बे-झिजक मैं ने
हुई जहाँ कहीं महसूस बू हतक की मुझे

ख़राब-हाल ये बे-‘ख़ैर’ ओ बे-अदब हो कर
भटक न जाए कहीं फ़िक्र है सड़क की मुझे