भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लुलू मेरे लुलू... / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं भी चाहता हूँ
काले दोस्त बनाना
जिनके अजीब से नाम हों
और उनके साथ
तैरना चाहता हूँ
मदागस्कर से चीन के बंदरगाहों तक ।

मैं चाहता हूँ कि
उनमें से एक
जहाज़ के डेक पर खड़े होकर
तारों को निहारे और गाए हर रात
"लुलू मेरे लुलू..."

मैं चाहता हूँ
इनमें से किसी एक से
किसी दिन
पेरिस में मिलना

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय