भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

लेकिन मुझे पैदा किया उस देस में तूने / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक वलवला-ए-ताज़ा[1] दिया मैंने दिलों को
लाहौर से ता-ख़ाके-बुख़ारा-ओ-समरक़ंद[2]

लेकिन मुझे पैदा किया उस देस में तूने
जिस देस के बन्दे हैं ग़ुलामी पे रज़ामंद[3]
 

शब्दार्थ
  1. नया भाव
  2. बुख़ारा और समरकंद की भूमि तक
  3. सहमत