भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लेखो-जोखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांसां नै चींथै है सांसां
हाथां नै बाढै है हाथ
आदमी री छाती माथै
पग टेक्यां ऊभो है
आदमी
देखो तो सरी
मिनख कित्ती
तरक्की कर रैयो है ।