भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लेतां लेतां रामनाम रे, लोकड़ियां तो लाजो मरै छे / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग बिलावल


लेतां लेतां रामनाम रे, लोकड़ियां तो लाजो मरै छे।

हरि मंदिर जातां पांवड़ियां रे दूखै, फिर आवै आखो गाम रे।
झगड़ो धाय त्यां दौड़ीने जाय रे, मूकीने घर ना काम रे॥

भांड भवैया गणकात्रित करतां वैसी रहे चारे जाम रे।
मीरा ना प्रभु गिरधर नागर चरण कंवल चित हाय रे॥

सब्दार्थ :- लोकड़ियां = लोग। लाजां मरे छे =शर्म के मारे मरते हैं। पांवड़ियां = पैर। आखो = सारा। धाय =हो रहा हो। त्यां = तहां। मूकीने =छोड़कर। भवैया = नाचने-वाले। बैसी रहे = बैठा रहता है।

टिप्पणि :- यह पद गुजराती भाषा में रचा गया है।