भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लेता लेता श्रीरामजीनुं नाम / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेता लेता श्रीरामजीनुं नाम। लोकडिवा तो लाजे मरे छे॥ध्रु०॥
हरी मंदिर जाता पाव लिया दुखे। फरा आवे सारूं गाम॥१॥
झगडो थाय त्यां दोडीनें जाया। मुक्तीनें बरना काम॥२॥
भांड भवैया गुणका नृत्य करता। बेशी रहे चारे ठाम॥३॥
मीरा कहे प्रभु गिरिधर गुण गाऊं। चरणकमल चित्त काम॥४॥