भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोकतन्त्र ख़ामोश है / कृष्ण कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोकतन्त्र ख़ामोश है
हर किसी ने उसे
आगे कर दिया है ढाल की तरह ।

लोकतंत्र की आड़ में
रोज़ बदलते हैं पाले
गिरती हैं सरकारें
पर लोकतंत्र ख़ामोश है।

किस-किस को चुप कराए ये लोकतन्त्र
पाकिस्तान, अफ़गानिस्तान, ईराक
और भी न जाने कितने देश
इसका मुलम्मा चढ़ाकर
इसे ही चिढ़ाए जा रहे हैं

हर कहीं, लोकतंत्र लाने की ख़ातिर
घोंटा जा रहा है
लोकतंत्र का ही गला
पर लोकतंत्र ख़ामोश है ।