भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोगी तुम ? / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हें दूँ
ऐसा कुछ भी तो नहीं

अगर एक नया नाम दूँ
तुम लोगी ?
वह नाम कोई विजय-तिलक
लगाएगा नहीं तुम्हारे ललाट पर ।

एक वृद्ध कविता लेखक
पाएगा शान्ति उस नामकरण से

एक दिन बिजली चली गयी थी भर संध्या बेला
मोमबत्ती जलाकर तुमने
ऊँची कर पकड़ ली थी उसकी शिखा
उस समय था अगहन मास,

उसी दिन से मन-ही-मन
तुम्हें पुकारने लगा हेमन्तिका !

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी