भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लो, ख़ुश रहो उठाकर तुम, / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: सूखे होंठों की प्यास
»  लो, ख़ुश रहो उठाकर तुम,

लो, ख़ुश रहो उठाकर तुम, इस हथेली से मेरी
सूरज के एक टुकड़े-सी, मीठे मधु की ये ढेरी
हम से कही यह बात पेर्सेफ़ोना[1] की मधुमक्खी ने

कोई खोल नहीं सकता पहले से खुली नाव को
कोई देख नहीं सकता समूर में लिपटी छाँव को
भय-घिरे जीवन को कोई और डरा नहीं सकता

हमारे लिए तो अब चुम्बन ही बचे हैं शेष
छोटी-छोटी झबरी-सी मधुमक्खियों के अवशेष
अपने उस छत्ते से उड़कर मर रही हैं जो

रात के झीने झुरमुट में सरसरा रही हैं वे
ताइगा[2] के घने वन में घर बना रही हैं वे
समय, पराग और गंध ही भोजन है उनका

लो, ज़रा मुझ से भैया, उपहार यह जंगली ले लो
सूखी-मृत मक्खियों की, अदृश्य ये मंगली[3] ले लो
मधु बदल गया मेरा अब सूरज के टुकड़े में

(रचनाकाल : नवम्बर 1920)

शब्दार्थ
  1. यूनानी मिथक परम्परा में मृत्युलोक की देवी
  2. शंकु-वृक्षों के सघन साइबेरियाई वन-क्षेत्र
  3. माला