भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लो चुप्पी साध ली माहौल ने सहमे शजर बाबा / सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
लो चुप्पी साध ली माहौल ने सहमे शजर बाबा
किसी तूफ़ान की इन बस्तियों पर है नज़र बाबा

है अब तो मौसमों में ज़हर खुलकर साँस लें कैसे
हवा है आजकल कैसी तुझे कुछ है खबर बाबा

ये माथा घिस रहे हो जिस की चौखट पर बराबर तुम
उठा के सर ज़रा देखो है उस पर कुछ असर बाबा

न है वो नीम, न बरगद, न है गोरी सी वो लड़की
जिसे छोड़ा था कल मैंने यही है वो नगर बाबा

न कोई मील पत्थर है पता दे दे जो दूरी का
ये कैसी है डगर बाबा ये कैसा है सफ़र बाबा