भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

वक़्त के साँचें में ढलना है तुझे / जंगवीर स‍िंंह 'राकेश'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक़्त के साँचें में ढलना है तुझे
गिरना भी है औ'र संभलना है तुझे
इज़्तिराब-ए-ग़म[1] नहीं करना है अब
जीना है ख़ुद के लिए जीना है अब
दास्तान-ए-दिल सुनाए भी तो क्या?
इश्क़ का हर मौज़ू कहना है अब !!

इश्क़ की लहरों पे चलना है तुझे
वक़्त के साँचें में ढलना है तुझे !!

आसमानों का सफ़र तय करना है
अपनी धुन में जीना है औ'र मरना है
बादलों पर इक कहानी लिखनी है
गोया[2] तेरी ज़िन्दगानी लिखनी है

फ़ैज़[3] की बाहों में पलना है तुझे
वक़्त के साँचें में ढलना है तुझे

  1. ग़म की चिंंता
  2. सुवक्ता, बोलने वाला
  3. सुन्दरता, स्वतंत्रता