भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वक़्त जब राह की दीवार हुआ / अज़ीज़ अहमद खाँ शफ़क़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक़्त जब राह की दीवार हुआ
कोई सैलाब नुमूदार हुआ

उस ने पेड़ों से हटा ली शाख़ें
बाग़ में से तू कई बार हुआ

मैं ने जो दिल में छुपाना चाहा
मेरे चेहरे से नुमूदार हुआ

साहिली-शाम का फैला मंज़र
कुछ लकीरों में गिरफ़्तार हुआ

रात इक शख़्स बहुत याद आया
जिस घड़ी चाँद नुमूदार हुआ