भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वक़्त बीमार है / चिराग़ जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक़्त बीमार है
Short term memory loss का पुराना मरीज़
कुछ याद ही नहीं रह पाता इसको
लिख-लिख कर
मुश्क़िल से याद रख पाता है
बड़ी से बड़ी बात
मैंने अक्सर देखा है वक़्त को
अपनी ही लिखी पर्चियों
के बीच
उलझे हुए
इतिहास की किताबों में
किसी क़िरदार की
सबसे सही पहचान तलाशते हुए
सुना है
वक़्त को धोखा देने के लिये
किसी ने जला डाली थीं
कुछ महत्वपूर्ण पर्चियाँ
…तब से
बौराया-सा फिर रहा है बेचारा
अपनी ही पर्चियों पर
संदेह करने को विवश!