भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वज़ह मत पूछो / थेओ कांदीनास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वज़ह मत पूछो
जो ज़िन्दा रहा है
उसके पास काफ़ी वज़हें हैं
कि वह चला जाए
जब दिन ढल रहा हो
बिना आँसू बहाए

और जो रहे
उसके पास हँसने की कोई वज़ह नहीं है
उसके पास काफ़ी वज़हें हैं
रुकने की
और रोने की

अनुवाद : विष्णु खरे