भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

वढी आंगळी चूसतां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठा पड़ै अर पड़ै ई कोनी
म्हैं कैवूं जणा
अड़ जावै तूं ई
ठा पड़ै किंयां कोनी
पड़ै ई है

पड़ै ई है
देखलै तूं खुद

आटो ओसण मेल्यो है
स्टोव जगावण सूं पैली
साग सुधारतां-सुधारतां
चक्कू सूं बढ़ै आंगळी
आंगळी आवै मूण्डै में
म्हैं चूसूं
अर
चूस्यां ई जावूं

आंख्यां आगै आय ऊभै तूं
ऊभी-ऊभी मुळकै
जाणै पूछती हुवै-
क्यूं
अबै ठा पड़ी नीं ?