भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वणु ऐं काठियरु / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वणु वढिजी रहियो हो
मूं वटि लञ़ज कोन हुआ
काठियर जे खि़लाफ़।

वढे रहियो हो त काठियरु ठेकेदार लाइ
मूं ध्यान सां हुन खे ॾिठो
लॻो त हू पाण बि वढिजी रहियो हो
वण जे वढिजी
किरी पवण खां पोइ बि
जारी हो हुन जो वढिजणु।