भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वतन का राग / बृज नारायण चकबस्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़मीन हिन्द की रुतबे[1] में अर्शआला[2] है
ये होमरूल की उम्मीद का उजाला है

मिसेज बेसण्ट ने इस आरज़ू[3] को पाला है
फ़क़ीर क़ौम के हैं और ये राग माला है

तलब[4] फ़िज़ूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त[5] भी हम होमरूल के बदले

वतनपरस्त[6] शहीदों[7] की ख़ाक लाएँगे
हम अपनी आँख का सुरमा उसे बनाएँगे

ग़रीब माँ के लिए दर्द दुख उठाएँगे
यही पयामे वफ़ा[8] क़ौम को सुनाएँगे

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

हमारे वास्ते ज़ंजीर तौक़[9] गहना है
वफ़ा[10] के शौक़ में गाँधी ने जिसको पहना है

समझ लिया कि हमें रंजो दर्द सहना है
मगर ज़ुबाँ से कहेंगे वही जो कहना है

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

पिन्हानेवाले अगर बेड़ियाँ पिन्हाएँगे
ख़ुशी से क़ैद के गोशे[11] को हम बसाएँगे

जो सन्तरी दरे ज़िन्दाँ[12] के सो भी जाएँगे
ये राग गा के उन्हें नींद से जगाएँगे

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

ज़बाँ को बन्द किया है ये गाफ़िलों[13] को है नाज़[14]
ज़रा रगों में लहू का भी देख लें अन्दाज़[15]

रहेगा जान के हमराह[16] दिल का सोज़ गदाज़[17]
चिता से आएगी मरने के बाद ये आवाज़

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

यही दुआ[18] है वतन के शकिस्ताहालों[19] की
यही उमंग जवानी के नौनिहालों[20] की

जो रहनुमा[21] है मुहब्बत पै मिटनेवालों की
हमें क़सम है उसी के सफ़ेद बालों की

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

यही पयाम[22] है कोयल का बाग़ के अन्दर
इसी हवा में है गंगा का ज़ोर आठ पहर

हिलाले ईद[23] ने दी है यही दिलों को ख़बर
पुकारता है हिमाला से अब्र[24] उठ-उठकर

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

बसे हुए हैं मुहब्बत से जिनकी क़ौम के घर
वतन का पास[25] है उनको सुहाग[26] से बढ़कर

जो शीरख़्वार[27] हैं हिन्दोस्ताँ के लख़्ते जिगर[28]
ये माँ के दूध से लिक्खा है उनके सीने[29] पर

तलब फ़िजूल है काँटे की फूल के बदले
न लें बहिश्त भी हम होमरूल के बदले

शब्दार्थ
  1. पद
  2. सर्वोच्च आकाश
  3. कामना
  4. चाह
  5. स्वर्ग
  6. देशभक्त
  7. प्राण समर्पित करने वाला
  8. कृतज्ञता-सन्देश
  9. गले की ज़ंजीर
  10. वादा निभाने वाला
  11. कोने
  12. कारागार
  13. अनजानों
  14. अभिमान
  15. ढंग
  16. साथ
  17. दुःख दर्द
  18. कामना
  19. दुःखी दीन
  20. युवक
  21. पथ प्रदर्शक
  22. सन्देश
  23. ईद का चाँद
  24. बादल
  25. ख़याल
  26. सौभाग्य
  27. दूध पीने वाला
  28. कलेजे के टुकड़े
  29. छाती