भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वतन / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
जहाँ जाऊँ वतन की याद मेरे साथ रहती है
निशाते-महफ़िले- आबाद मेरे साथ रहती है


वतन ! प्यारे वतन ! तेरी मुहब्बत जुज़वे ईमाँ है
तू जैसा है,तू जो कुछ है, सुकूने-दिल का सामाँ है

वतन में मुझको जीना है,वतन में मुझको मरना है
वतन पर ज़िन्दगी को एक दिन क़ुरबान करना है




निशाते-महफ़िले-आबाद : भरी महफ़िलों के वैभव