भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वन्दना / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एक घड़ी सुमिरौं शीतल माय, द्वि घड़ी सुमिरौं हे।
दशो घड़ी लियवौं तोहरो नाम हे।
कथी के मनदिरबा शीतल माय, कथी के केवड़िया हे।
कथी घेरलेॅ चारों ओर हे।
पथलेॅ मंदिरवा रे सेवका-चन्दन केवड़िया हे।
रूपेॅ घेरल चारों ओर हे।
दई दुशमनमा शीतल माय, वगलेॅ दवाईयोॅ हे।
रैनी घड़ी होईहै सहाय हे।
कर जोरि विनती हे करौं, अवल भगतिया हे।
लागोॅ मैया बालका के गोहार हे।