भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वन की प्रकृति वामा / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हास-हर्ष-हुलास की यह हरी जाया

फूल-फल से, रूप-रस से भरी काया

पात-पात प्रकाश-दीपित प्रकृति वामा

वात-वास-विलास-जीवित सुरति श्यामा

हर रही दव, कर रही संभूत माया

परस अपरस-विरस पर कर रही दाया

जठर जड़ भी चलित चित चैतन्य होते

देखते ही चूमते छवि, धन्य होते

गमक अग का मदन-मद-सा विपुल बहता

पवन पथ का कथन मधु का अतुल कहता

अयन छवि के नयन अन्तर्नयन खुलते

वनज-वन के सदल सम्पुट वदन खुलते ।