भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वयस्क / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितनी सहज है
एक टुकड़ा हंसी !

देखूँगा
वह हंसी
इसीलिए आता हूँ
सभी समझते हैं इसे

वयस्क व्यक्ति की
एक कमज़ोरी

उनकी उस सब समझ की ओर
पीठ फेर कर मैं
टकटकी लगाकर देखता रहता हूँ
सिर्फ़ तुम्हारी ओर

देखता हूँ कि
किस तरह
नवधारा जल में उतर आती है —

कथा और हँसी,
हँसी और कथा ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी