भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वरदान / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जे होय छै महान,
उनका जानै छै जहान।

केकरोॅ प्रतिभा केॅ कोय नै रोकै छै,
केकरोॅ आगू ऊ नै झूकै छै।

गम सें भलेॅ समय पर छुपै छै,
कहियोॅ नै होय छै अपमान।
जे होय छै महान,

कृति जिनकोॅ झलकै छै,
पाबै लेॅ उनका जग लपकै छै।

जेनां पंकज पर पानी ढलकै छै,
तेनां ही दुश्ट हरकै छै।

संधि केॅ आशा छै भगवान,
जे होय छै महान।