भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वर्णसंकर / लैंग्स्टन ह्यूज़ / अमर नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा बाप एक बूढ़ा गोरा है
और मेरी बूढ़ी माँ है काली।

अगर मैंने कभी भी
अपने गोरे बाप पर लानत भेजी हो
मैं अपनी सारी लानतें वापिस लेता हूँ।

अगर मैंने कभी भी
अपनी बूढ़ी काली माँ को कोसा हो
और यह कामना की हो कि
भाड़ में जाए वो
मैं शर्मिन्दा हूँ उस दुष्ट कामना के लिए
और अब मैं उसे शुभकामनाएँ देता हूँ।

मेरा बाप
एक आलीशान बड़े घर में मरा
और मेरी माँ
मरी एक झोंपड़ी में
मैं सोचता हूँ —
मैं कहाँ मरूँगा,
क्योंकि मैं न तो गोरा हूँ
न ही काला?

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : अमर नदीम