भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वर्षा / अब्दुर्रहमान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इमि तपिअउ बहु ग्रीष्म सकौं कस बोलियऊ।
पथिक! आव पुनि पावस ढीठ न आव पियऊ ।

चौदिसि घोरंधार छाय गउ गरुअ-भरो।
गगन-कुहर घुरघुरै सरोषउ अंबुधरो॥

वक छाडिय सलिल-हृद तरु शिखरहिं चढेऊ ।
तांडव करिय शिखंडिहि वर शिखरे रटेऊ ।

सलिलेहिं वर शालूरेंहि परसेउ रसेउ स्वरे।
कल कल किउ कल कंठहिं चढि आमहि शिखरे॥