भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसंत में ठंड / अरविन्द पासवान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस वर्ष
वसंत में वसंत नहीं
लौट आयी है फिर से
ठंड
हाड़ कंपकंपाने वाली
बूढ़े बरगदों को जड़ों से हिलाने वाली

कभी-कभी शाप बनकर लौटती है लहरें
समुद्र की

दुखों के सागर
जीवन में

तड़प प्रेम की
अनायास

कभी-कभी
लौट आती है शाम पहले

सुबह से