भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसन्त-परी / सुधा गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सज-धज के
आकाश से उतरी
वसन्त-परी
हुई लहू-लुहान
शख़्मी, बेदम
कंक्रीट के जंगल
आ के जो गिरी
हँसता है मानव
पंख नोच के
वहशी बन चुका
करे प्रहार
प्रदूषण-दानव
साँस ही रुकी
आई थी वो खेलने
डूब ही गई
खौलते सागर में
जीवन-तरी
नृशंस, हत्यारा है
महा-नगर
भटकती ही फिरी
लोहा, सीमेण्ट
पत्थरों ने दुत्कारा
होश खो, गिरी
दो बूँद पानी नहीं
ममता नहीं
हरा-सा साया नहीं

धूप से जली
भूखी-प्यासी टकरा
रेत के टीलों
दम तोड़ गई री!
धरा बिलख रही

-0-