भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वही जुनूँ है वही क़ूच-ए-मलामत है / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


वही जुनूँ[1]है वही क़ूच-ए-मलामत [2]है
शिकस्ते-दिल[3]प’ भी अहदे-वफ़ा [4]सलामत[5]है

ये हम जो बाग़ो-बहाराँ[6]का ज़िक्र[7]करते हैं
तो मुद्दआ[8]वो गुले-तर[9]वो सर्वो-क़ामत[10]है

बजा ये फ़ुर्सते-हस्ती[11]मगर दिले-नादाँ[12]
न याद कर के उसे भूलना क़यामत[13]है

चली चले यूँ ही रस्मे-वफ़ा[14]-ओ-मश्क़े-सितम[15]
कि तेगे़ -यारो-सरे-दोस्ताँ[16]सलामत है

सुकूते-बहर[17]से साहिल [18]लरज़[19]रहा है मगर
ये ख़ामुशी किसी तूफ़ान की अलामत [20]है

अजीब वज़्अ[21]का ‘अहमद फ़राज़’ है शाइर
कि दिल दरीदा[22]मगर पैरहन[23]सलामत है

शब्दार्थ
  1. उन्माद
  2. निंदा वाली गली
  3. दिल के टूटने
  4. वफ़ादारी का प्रण
  5. सुरक्षित
  6. वाटिका और वसंत
  7. चर्चा
  8. उद्देश्य
  9. ताज़ा फूल
  10. सर्व वय्क्ष जैसे सुंदर डील-डौल वाला
  11. जीवनकाल
  12. नादान दिल
  13. महाप्रलय
  14. वफ़ादारी की परंपरा
  15. अत्याचार का अभ्यास
  16. मित्रों और प्रियजनों की तलवार
  17. महासागर का मौन
  18. तट
  19. काँप
  20. लक्षण
  21. शैली
  22. दु:खी हृदय
  23. वस्त्र