भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह उसकी सिहरती देह में / उदयन वाजपेयी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह उसकी सिहरती देह में
बोता जाता है अनेक स्पर्श

अपनी ही आभा की झील में
डूब रहा है
चाकू-सा पैना चन्द्रमा

वह अँधेरे कमरे में
चुपचाप उठकर खोजती है
कहाँ गिर गया वह कनफूल !