भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह नदी किनारे बैठ गाती थी सदा / क्रिस्टीना रोजेटी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुनगुनाती नदी की संगिनी बन
वह नदी किनारे बैठ गाती थी सदा,
ताकती थी मुस्कराती धूप में
मछलियों के खेल और अठखेलियाँ ,

मैं बैठती थी हमेशा अपना विलाप लिए,
चाँद की यंत्रणा भरी गोद में,
देखती थी बसन्त की आहटों को,
नदी में बहती हुई सुबकती पत्तियों को,

मैं यादों के लिए गुज़रती थी आँसुओं के सफ़र से,
वह अपने गीतों में जलाती थी, उम्मीद के दिए,
मेरे आँसू कहीं खो गए समन्दर में जाकर,
और उसके गीतों को ले गयी हवा बहाकर।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : सोनाली मिश्र

और अब पढ़िए कविता मूल अँग्रेज़ी में
She sat and sang alway
  By the green margin of a stream,
Watching the fishes leap and play
  Beneath the glad sunbeam.

I sat and wept alway
  Beneath the moon's most shadowy beam,
Watching the blossoms of the May
  Weep leaves into the stream.

I wept for memory;
  She sang for hope that is so fair:
My tears were swallowed by the sea;
  Her songs died on the air.