भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह पठार जो जड़ बीहड़ था / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह पठार जो जड़ बीहड़ था

कटते-कटते ध्वस्त हो गया,
धूल हो गया,
सिंचते-सिंचते,
दूब हो गया,
और दूब पर
वन के मन के-
रंग -रूप के, फूल खिल उठे,
वन फूलों से गंध-गंध
संसार हो गया।