भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वार्ता:सफ़र हो शाह का या क़ाफ़िला फ़क़ीरों का / अतुल अजनबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदरणीय महोदय

इंगित त्रुटि (ग़ज़ल में शे’रों के बीच दिए गए डॉट्स का प्रयोग) का निराकरण कर दिया गया है तथा टैम्पलेट भी ठीक कर दिया है त्रुटि इंगित कराने हेतु आभारी हूं --अशोक कुमार शुक्ला (वार्ता) 18:53, 23 जुलाई 2012 (IST)