भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विचारशून्य-सा मैं / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी कभी सोचता हूँ
बस बहुत हुआ
अब घर को चलता हूँ
पर फिर सोचता हूँ
घर रहा कहाँ
बरसों बरस हुए उसे ढहे हुए
अब बस वीराने रास्ते हैं
टूटे मकान के अवशेषों को संभाले
एक निराशा है कहीं
चकाचोंध के शोर में

मन में
एक घबराहट-सी है अंदर मेरे
आँखों से मेघ बन बरसने को तैयार
कभी भी
कोई छोटी-सी बात को ले कर
एक सहमा-सा अकेलापन लिए है
मुझमें कहीं
मेरा अपना मन
मानो चाह के भी कुछ
कह नहीं पा रहा हो
बस घर की ओर इशारा करता
मेरे अपने अंतर्मन को कैसे दिखाऊँ
बाहर क्या घट रहा है
उसे कैसे समझाऊँ
अब वह सब टूट चुका है
काफी पीछे छूट चुका है
भग्नावशेषों में इंगित हुआ
जैसे कुछ मेरे अंदर है
वैसे ही कुछ मलबा बाहर बिखरा पड़ा हैं