भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विज्ञापन / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महँगी कारों और शानदार महलों के
विज्ञापन आपके लिए नही है ।

आपकी क़िस्मत में नही लिखी है
हवाई यात्राएँ,
पेज थ्री में प्रकाशित मादक विवरणों
में नही होगा आपका ज़िक्र,
अतः आप अपनी न्यूनतम ज़रूरतों
तक महदूद रहिए ।

इन विज्ञापनों में नही दिखाई देगा
आम आदमी का चेहरा
इस जगह पर खिलन्दड़ी अभिनेत्रियाँ
और लम्पट अभिनेता क़ाबिज़ हो गए हैं ।

आप इसे देखने तक सीमित रहिए
आपके लिए ये अँगूर खट्टे हैं ।