भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विदा — एक अल्पकालिक शब्द है / शुन्तारो तानीकावा / मणि मोहन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शाम की उजास से विदा लेने के बाद
मैं रात से मिला ।
पर लाल गुस्सैल बादल
कहीं गए नहीं
बस अँधेरे में छिप गए।

मैं सितारों को शुभरात्रि नहीं कहता
क्योंकि वे हमेशा
दिन की रोशनी में छिप जाते हैं
एक बच्चा जो मैं कभी था
अब भी मेरे उत्स के केन्द्र में रहता है।

मैं सोचता हूँ, कोई भी, कहीं ग़ायब नहीं होता
मेरे स्वर्गवासी दादा उग रहे हैं
पंख की तरह मेरे कंधों पर।

वे मुझे समय से बाहर की जगहों पर ले जाते हैं
उन बीजों के साथ
जिन्हें छोड़ा है मृत फूलों ने।

' विदा ' एक अल्पकालिक शब्द है।

यहाँ कुछ चीज़ें हैं
जो हमें बाँधें रखती हैं
एक साथ
याद करने और याद रखने से ज्यादा गहन।

यदि इस बात पर भरोसा है तुम्हें,
तो इसे तलाश करने की ज़रूरत नहीं ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मणि मोहन