भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विद्वान का ढेला / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस कविता को
सुला देना चाहिए

इसके पहले कि शुरू हो
इसका विद्वान होना
इसके पहले कि
यह कविता शुरू हो

इसके पहले कि
यह तारीफें बटोरे

किसी विस्मरण के पल में
यह जीवित हो

इसके पहले कि
अपनी ओर आते शब्दों और
आँखों की यह अभ्यस्त हो

इसके पहले कि
यह विद्वानों के उपदेश लेना
शुरू करे

गुज़रने वाले राहगीर
कतराकर गुज़र जाते हैं
कोई भी नहीं उठाता
वह विद्वान ढेला

उस ढेले के भीतर
एक नन्हीं-सी,
सफ़ेद,
नंगी कविता
जलती रहती है

राख हो जाने तक ।

रचनाकाल : 2002-2003