भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विनत तर्क / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देश — जिसका आकार घोड़ी के सिर-सा है,
जो घोड़ी पूरी सरपट चाल दूर एशिया से चली आती है,
भूमध्य सागर के भीतर घुस जाती है —
देश यह हमारा है।

ख़ूनी कलाइयाँ, भिंचे दाँत,
नंगे पाँव,
रेशम के क़ीमती क़ालीन-सा यह देश
नरक और स्वर्ग यह हमारा है।

वे द्वार बन्द हों जिन पर दूसरों का अधिकार है,
वे द्वार फिर कभी न खुलें।
ख़त्म करो आदमी को दास बनाने की प्रथा —
यही विनम्र तर्क हमारा है —
जीते रहें ज्यों एक वृक्ष हो, निरवलम्ब, स्वाधीन,
भ्रातृत्व का कान्तार हो —
यही मनोकामना हमारी है।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : चन्द्रबली सिंह