भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विपर्यय / निज़ार क़ब्बानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: निज़ार क़ब्बानी  » विपर्यय

जबसे पड़ा हूँ मैं प्रेम में
बदल-सा गया है
ऊपर वाले का साम्राज्य ।

संध्या शयन करती है
मेरे कोट के भीतर
और पश्चिम दिशा से उदित होता है सूर्य ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह