भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

विलोम रति / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खन से आ गिरीं
कलाई में चूडियां
और हाथों में थे
निश्चय ही श्रीफल

एक अधोमुखी कमल
कमल-नाल पर खुलता गया
  आहिस्ता-आहिस्ता
पंखुडियों का सिकुडना
  आहिस्ता-आहिस्ता
फिर खुलना
आहिस्ता-आहिस्ता
पराग का झरना
आहिस्ता-आहिस्ता

गुत्थमगुत्था सांसों के बीच
खिलखिला रही थी सुगंध !